How To Do SEO For Website In Hindi? A Step-By-Step Guide

SEO की सहायता से आप Google में अच्छी ranking ला सकते हैं. लेकिन क्या आपको SEO करने का सही तरीका पता है. अगर आप SEO की Step-By-Step guide ढूंढ रहे हैं तो यह आपको ज़रूर पढ़ना चाहिए.

SEO की शुरुआत keyword research से होती है. इसमें आपको कम competition वाले की keywords को ढूंढना होता है. इसके बाद आप इनकी keywords पर article लिखते हैं. आर्टिकल लिखने के बाद तीसरा चरण चालू होता है इसको off-page SEO कह सकते हैं. इस चरण में आप अपने वेबसाइट के लिए backlink हासिल करने की कोशिश करते हैं.

तो चलिए how to do seo for websites in hindi देखते हैं.

How To Do SEO For Website In Hindi

अगर आप एक हिंदी ब्लॉग बनाना चाहते हैं तो उसके लिए SEO का तरीका आपको सीखना होगा. Google ने कई बार बताया है कि वह अब local languages को ज्यादा महत्व देते हैं. मतलब अगर आप  भारत में रहकर भारतीय लोगों के लिए blog लिखे तो उसके rank होने के chances ज्यादा होते हैं.

SEO For Hindi Blog Or Website

कुछ tips उपयोग करके आप आसानी से हिंदी ब्लॉग का SEO कर सकते हैं.

1. अपना niche चुने

Niche या Category चुन्ना सबसे मुश्किल और महत्वपूर्ण कदम होता है. यह एक कला के समान है.

अगर आप गलत niche पर काम करते हैं तो आपको ranking लाने में काफी परेशानी का सामना करना होगा. आप परेशान होकर उस पर काम करना ही छोड़ देंगे.

एक website या blog को सफल बनाने के लिए आपको काफी लंबा समय लग सकता है. अमूमन कम से कम 2-3 साल का समय. फिर इसमें आपको हर एक दिन मेहनत करने की जरूरत होगी. 

अपने अगर एक ऐसा niche चुन लिया जिसमें आप का मन नहीं करता तो कुछ ही समय में उसको छोड़ कर कोई और कार्य करने लग जाएंगे.

अपनी सफलता के लिए हमेशा ऐसा niche चुने जिसमें आपको लिखने का मन करता हो. उसके लिए passionate है और आंख बंद करके भी उसके बारे में बात कर सकते हैं. यही एक तरीका है अपने लिए अच्छा niche चुनने का.

2. Keyword Research करें

Keyword Research एक बहुत ही महत्वपूर्ण phase है. अगर आपने सही niche में गलत keywords को target करेंगे तो ranking हासिल करने में आपको बहुत दिक्कत का सामना करना होगा. इसलिए keyword research पर अधिक ध्यान दें.

Niche select करने के बाद keyword research दूसरा सबसे महत्वपूर्ण कदम होता है. सही niche में गलत keywords को target करने पर भी रैंकिंग नहीं आएगी.

मैं हमेशा long tail और कम competition वाले keywords को target करता हूं. इससे मुझे जल्दी रैंकिंग मिलती है और result भी अच्छा आता है.

types of keyword in hindi
Ref – Backlink.com

हिंदी के लिए आप तीन तरह के keyword चुन सकते हैं:-

  1. What is SEO In Hindi (English Text पर हिंदी में उत्तर चाहिए)
  2. SEO Kya Hai (Hinglish)
  3. एसईओ क्या है (Hindi)

कोशिश करें कि 1 या 2 option में से जिसकी भी search volume ज्यादा और competition कम है उनको चुने.

मैं keyword research पर 20-30 दिन का समय देता हूं. कहीं बार तो यह समय इससे भी ज्यादा हो जाता है. लेकिन इतने दिनों की मेहनत के बाद जो निकलता है वहां goldmines होता है.

3. Domain Selection – Domain कैसे चुने

Domain चुनना एक महत्वपूर्ण step होता है. Domain याद करने में आसान और साथ में छोटा रहना चाहिए. अगर personal branding के लिए वेबसाइट चालू करना चाहते हैं तो अपने नाम से जुड़े domain को खरीदने का सोचे.

Domain select करने के बाद आता है extension select करना. अगर आप हिंदी में blog चालू करते हैं तो बेहतर रहेगा आप “.in” extension वाला domain खरीदें.

इससे आप Google को पहले ही यह signal देते हैं कि आप भारत में ही rank करना चाहते हैं. आपके लिए “.net” और “.com” वाले domain ज्यादा सहायक नहीं होंगे. 

URL की अधिक जानकारी के लिए – URL Kya Hai और Types Of URL In Hindi पढ़ें.

4. Quality content लिखें

Content ही आपके blog को अच्छा रैंक लाने में help कर सकती है. आपका ज्यादातर समय content लिखने में जाना चाहिए.

मैं अगर कोई वेबसाइट चालू करता हूं तो कम से कम 40 articles पहले चरण में लिखता हूं. उसके बाद उनको optimize करके अच्छी रैंकिंग हासिल करने की कोशिश करता हूं. यह करने में मुझे 3-4 महीने का समय लगता है. इसके बाद यही काम में दूसरे चरण में भी दोहराता हूं. ऐसे करके 100-150 articles के बाद मैं कुछ महीने का इंतजार करता हूं. अपने सारे कांटेक्ट को फिर से optimize करने की कोशिश करता हूं. मेरा कौन सा content अच्छा नहीं चल रहा है मैं उसको analyze कर के कारण जाने की कोशिश करता हूं.

इसके बाद अगले चरण में फिर यही सब दोहराता हूं.

5. अपनी वेबसाइट की स्पीड को बढ़ाएं

Google अपने यूजर्स को fast result देना चाहता जाता है. इसलिए आपका वेबसाइट भी तेज होना चाहिए.

Amazon का वेबसाइट अगर 1 second slow होता है तो वहां 12 लाख dollar ($1.2 Million) का व्यापार खो देंगे. इसे भी वेबसाइट की स्पीड का महत्व ज्ञान पड़ता है.

कोशिश करें कि आपकी website 1-2 second के अंदर load हो जाए. आप GTmetrix और Google Page Insights पर अपनी वेबसाइट की speed को check कर सकते हैं.

6. Backlink हासिल करें

Backlink भी ranking के लिए काफी महत्वपूर्ण है. बिना backlink आप ज्यादा अच्छी रैंकिंग हासिल नहीं कर पाएंगे.

हमेशा backlink की क्वालिटी पर ध्यान दें, कभी भी ज्यादा backlink बनाने के चक्कर में ना रहे.

शुरुआती दिनों में आप web 2.0, social bookmarking जैसे platform से backlink हासिल कर सकते हैं. परंतु quality backlink के लिए आपको guest post, 404 backlinks, web mentions जैसे तरीकों का उपयोग करना होगा.

Backlink पूरी जानकारी के लिए – Backlink Kaise Banaye पढ़ें. 

7. Images का उपयोग करें

कोई भी व्यक्ति boring text को नहीं पढ़ना चाहता. इसलिए यह जरूरी है कि आप images, videos आदि का उपयोग करें.

इससे लोगों को समझने में भी आसानी होती है और पढ़ने में भी मजा आता है.

8. URL में keyword का उपयोग करें

अगर आप अपने URL में main keyword का उपयोग करते हैं तो Google को अच्छा signal जाता है.

यह कुछ step follow करके अपने ब्लॉग पर SEO कर सकते हैं.

9. Internal Link

यह अपने post को rank कराने का सबसे बेहतरीन तरीका है. आप अपनी related pages को एक दूसरे से interlink कर सकते हैं.

ज्यादा कंपटीशन वाले pages को अपने rank किए हुए पेजेस से link दे सकते हैं. इस तरह competitive pages को link-juice मिलता है और धीरे-धीरे यह page भी rank करने लग जाएगा.

10. Breadcrumbs का उपयोग करें

अपनी चूहे को दाना डालते हुए देखा है?

व्यक्ति कैसे चूहे को फसाने के लिए पूरे रास्ते दाना डाल देता है और चूहा उन दानों को ढूंढते ढूंढते जाल में फंस जाता है. इसी को Breadcrumbs कहां जाता है.

11. Alt Text (Alternative Text) Add करें

सर्च इंजन बहुत ही आधुनिक हो गए हैं. लेकिन कुछ खामी अभी भी इन सभी में है. कोई भी सर्च इंजन images को अच्छी तरह पढ़ने में नासमझ है. Images के अंदर लोग क्या बात करना चाह रहे हैं उनको नहीं मालूम चलता.

इसीलिए alt text (Alternative Text) का उपयोग करके हम सर्च इंजन को अपनी इमेज के बारे में बताते हैं. इस तरह से सर्च इंजन को इमेजेस के बारे में मालूम चलता है और यह चीज हमारे SEO ranking में काफी सहायता करती है.

Alt Text कैसे डालें?

Alt Text को images से संबंधित कुछ लिखें.

उदाहरण के तौर पर अगर images खाने के बारे में है तो आप dishes का नाम लिख सकते हैं.

12. Schema add कर सकते हैं

वह डांटा जो सर्च इंजन को हमारे article के बारे में अधिक जानकारी देता है इसको schema कह सकते हैं.

आपने कभी ना कभी नीचे दिए गए “star” searches जरूर देखे होंगे. सभी आपके schema के अंदर आते हैं.

Schema In Website In Hindi

13. Meta Description

Search engine पर कुछ भी सर्च करने के बाद जो आपको छोटा सा description दिखता है, इसको meta description कहते हैं.

Meta Description का क्या उपयोग होता है?

यह आपके रैंकिंग बढ़ाने में directly सहयोग कम करता है. इसका प्रभाव users पर अधिक पड़ता है. अगर अच्छा meta description लिखा हो तो लोग उस पर ज्यादा click करते हैं. ज्यादा CTR (Click Through Rate) होने से सर्च इंजन आपको अच्छी है रैंकिंग देता है.

Meta Description के बारे में अधिक जानकारी के लिए यह पढ़ें.

14. Content-Length

Article की लंबाई ranking में काफी महत्वपूर्ण होती है. आप कितने शब्द का article लिख रहे हैं पेंटिंग में इसका प्रभाव जरूर पड़ता है.

Blog कितने शब्दों का लिखना चाहिए?

इसका कोई ठीक parameter नहीं है. मैं blog length को जांचने के लिए अपने competitors का सहारा लेता हूं. मैं Google पर जाकर ranking आए हुए blogs की average word count लेता हूं और उससे अधिक शब्दों का आर्टिकल लिखने की कोशिश करता हूं.

अगर कुछ समझ नहीं आ रहा है फिर भी तो 1,000 – 1,200 शब्दों का आर्टिकल लिख सकते हैं.

15. User Intent को समझे

कोई भी आर्टिकल लिखने से पहले users के बारे में सोचें. Article के माध्यम से users के दिमाग में घुसने की कोशिश करें और यह जाने कि वह व्यक्ति किस चीज के बारे में अपना उत्तर ढूंढ रहा है.

बहुत बार मैंने देखा है कि लोग आर्टिकल लिख देते हैं लेकिन users के बारे में नहीं सोचते. इसी कारण users संतुष्ट नहीं हो पाता और article का CTR कम हो जाता है जिस कारण ranking भी नीचे गिर जाती है.

16. HTTPS (SSL Certificate) का उपयोग करें

यह हमेशा पाया गया है कि Google सुरक्षित वेबसाइट को ज्यादा महत्व देता है. जिस कारण आपको भी अपनी वेबसाइट को सुरक्षित करना चाहिए.

आपने कई बार यह देखा होगा.

SSL Certificate In Hindi

इस ताले का मतलब है कि आपकी वेबसाइट सुरक्षित है. और कोई भी व्यक्ति बिना कोई परेशानी के आपके वेबसाइट पर आ सकता है.

SSL सर्टिफिकेट यह चीज करने के लिए जरूरी होता है. यह आपको hosting company से मिल जाएगा. 

लेकिन याद रहे SSL Certificate फ्री नहीं होता.

17. Social Share Button का उपयोग करें

Users आपकी कंटेंट को कितना पसंद करते हैं और वह लोग कंटेंट को कितना share करते हैं इस चीज पर भी आपकी ranking निर्भर करती है. 

आप अपनी website में साधारण सा social share button डालकर काफी अच्छी रैंकिंग हासिल कर सकते हैं.

इसके लिए आपको wordpress पर काफी plugin मिल जाएगा. 

18. Author Page का उपयोग करें

Google का हाल में ही एक अपडेट आया जिसमें एक author के credibility पर ranking का सीधा प्रभाव देखा गया. मतलब जितना लोग आप पर भरोसा करते हैं उतनी अच्छी रैंकिंग आपको मिलने वाली है.

इसी कारण आपको “About Author” अपने प्रत्येक page में डालना चाहिए और साथ में अपने social media pages को link करना होगा.

अभी जैसे कोई व्यक्ति या search engine author वाले सेक्शन पर आएंगे और उनको आपका सभी social media handleदेखने को मिलेगा वैसे ही आपका भरोसा बढ़ जाएगा.

19. Make Social Media Pages

भले ही आप ने अभी blogging की यात्रा आरंभ की हो लेकिन आपको अपने सभी social media pages  जैसे – Facebook, Twitter, Pinterest, LinkedIn और YouTube बना लेना चाहिए.

इसका एक फायदा होता रहेगा कि आपका सोशल मीडिया कोई और नहीं ले सकता. इसी कारण आप अगर भविष्य में कभी सोशल मीडिया चालू करने की सोचेंगे तो आपको दिक्कत का सामना नहीं करना होगा. 

20. लोगों के प्रश्नों का उत्तर दें

अगर कोई व्यक्ति आपसे social media या website पर कुछ पूछता है तो आपको उसका सही सही उत्तर जरुर देना चाहिए. हो सके तो अपने ही नहीं बल्कि दूसरे वेबसाइट पर जाकर भी यह कार्य कर सकते हैं.

इस कारण से आपका ज्ञान सामने देखने को मिलेगा और लोगों का भरोसा आप पर बढ़ता जाएगा.

21. Better Servers का उपयोग करें

Speed आपके रैंकिंग का एक बहुत ही महत्वपूर्ण factor होता है. अगर आपकी वेबसाइट खुलने में 3 seconds से ज्यादा का समय लग जाती है तो 50-70% users बिना आपकी वेबसाइट पर आए चले जाएंगे. इस तरह आपकी ranking काफी नीचे आ जाएगी.

22. Make Blog Post Entertaining

किसी भी व्यक्ति को केवल लंबे-लंबे paragraph और बिना कोई image वाले blog पढ़ने का मन नहीं करेगा.

अपने ब्लॉग को रोचक बनाने के लिए Videos, Images, Infographics का तड़का दे सकते हैं. इसी कारण लोग आपके वेबसाइट पर ज्यादा समय तक रहेंगे और आपकी dwell time भी बढ़ेगा. Dwell time बढ़ने से आप की रैंकिंग बनने में काफी आसानी होगी.

जरूरी नहीं कि आप अपना वीडियो ही blogpost में डालें. किसी दूसरे का वीडियो भी डाल सकते हैं इसमें कोई परेशानी नहीं होने वाली.

23. Make Mobile Friendly Website

 कुछ साल पहले Google “mobile first indexing” लेकर आए. मतलब Google पहले mobile को preference देने वाला है.

आसपास देखने पर पाएंगे कि लोग ज्यादातर समय mobile पर बिताते हैं. कुछ पढ़ना हो या कुछ देखना सभी कुछ आजकल mobile की सहायता से होता है.  इसी कारण आपको mobile friendly वेबसाइट बनाना चाहिए.

Mobile Friendly वेबसाइट बनाने के लिए आप AMP (Accelerated Mobile Page) का उपयोग भी कर सकते हैं

24. Fix Broken Link

अगर आपने किसी link पर click किया और वह लिंक अभी नहीं है इसी को broken link कहते हैं.

Broken link आपको 404 error देगा. इस कारण से आप की वेबसाइट की रैंकिंग पर खराब प्रभाव पड़ता है.

अगर आप की वेबसाइट पर भी ऐसा कुछ है तो आपको इसको जल्दी से ठीक करने की कोशिश करना चाहिए. 

इसको ठीक करने के लिए आपको किसी दूसरे relevant page का लिंक देना होगा.

25. दूसरे किसी useful website को link दे सकते हैं

अगर आपने अपने वेबसाइट पर दूसरे किसी वेबसाइट का link दिया तो Google को लगेगा कि आपने काफी अच्छी research करके article लिखा है.

इस कारण से रैंकिंग बढ़ने के भी कुछ chance होते हैं.

Future Of Hindi Blogging

Google जानता है कि लोग अपने local भाषा में भी जानकारी सर्च करते हैं. यही कारण है कि गूगल local भाषा की website को ज्यादा preference देता है.

future of hindi blogging

इसी का लाभ आप उठा सकते हैं और अपना ब्लॉग हिंदी में बना सकते हैं.

एक समय था जब Google Adsense हिंदी भाषी वेबसाइट को approve नहीं करता था. जैसे-जैसे वक्त बीतता गया Adsense ने हिंदी को approve कर दिया.

हिंदी बोलने वाले लोगों की buying potential कम होती है. इसलिए Hindi Blogging में Affiliate Marketing करना थोड़ा मुश्किल होता है.

लेकिन फिर भी आप Google Adsense से अच्छा कमा सकते हैं. हिंदी भाषा में competition कम होता है.

आपको अगर एक English blog चालू करना है तो उसके लिए आपको है इंग्लिश में लिखना सीखना होगा. जिस कारण से आपको सफलता पाने में काफी समय लग सकता है. हिंदी हम लोग जन्म से ही बोलते हैं इसमें हमको बहुत सीखने की जरूरत नहीं पड़ेगी.

FAQ (Frequently Asked Question)

  1. Breadcrumbs का क्या उपयोग होता है?

    इसके जरिए हम search engine को content ढूंढने के लिए बता सकते हैं. Crawlers को हमारा कंटेंट ढूंढने में कोई परेशानी ना हो और अपना कंटेंट तेजी से ढूंढ सके इन दोनों कारणों से हम breadcrumbs का उपयोग करते हैं.

  2. Author Page का क्या फायदा होता है?

    इसका उपयोग से व्यक्ति और search engine दोनों को लगता है कि आप एक genuine आदमी हैं और कोई भी गलत काम नहीं कर रहे. अगर आपने अपने वेबसाइट पर कुछ गलत काम किया तो लोग सोशल मीडिया के जरिए आपसे शिकायत कर सकते हैं.

सारांश (Summary)

मैं आशा करता हूं की आपको how to do seo for website in hindi और hindi blog का future समझ में आ गया होगा.

अब आपकी बारी (Your Turn Now)

अगर आपको SEO for hind blog से related कोई भी doubts हो तो आप नीचे comment box में डाल सकते हैं. मैं आपकी समस्या का समाधान करने का पूरा कोशिश करूंगा.

अगर आपको यह article लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ share करें और उनका प्रॉब्लम solve करें.

Leave a Comment