Search Engine Kya Hai

Search Engine Kya Hai – Detailed Guide (2020 Updated)

इस आर्टिकल में हम लोग जानेंगे कि search engine kya hai.

सर्च इंजन (search engine) एक ऐसा सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है जो कि इंटरनेट पर उपलब्ध सारी जानकारियों (database) में से users के सवालों को ढूंढ कर SERP (Search Engine Result Page) पर दिखाता है. मुख्य तौर पर 4 तरह की सर्च इंजन होते हैं. इन सभी के काम करने का तरीका अलग होता है. कुछ सर्च इंजन जैसे – Google, Bing, Yahoo, etc. काफी complex mechanism का उपयोग करते हैं और आपको सटीक उत्तर देने की कोशिश करते हैं.

इस आर्टिकल में मैं आपको सर्च इंजन के बारे में विस्तृत जानकारी दूंगा और साथ में यह बताऊंगा कि यह कैसे काम करते हैं.

Search Engine Kya Hai – सर्च इंजन क्या है?

21 सदी में सब लोगों को इंटरनेट के के बारे में जानकारी है. जैसे ही हमें कुछ doubt रहता है तब हम अपने ब्राउज़र खोल के उसमें अपनी query या प्रश्न को टाइप करते हैं. कुछ ही सेकंड में हमको सैकड़ों में उत्तर मिल जाता है.

How Google Works In Hindi – सर्च इंजन काम कैसे करता है?

कोई भी modern सर्च इंजन 3 चरण में काम करता है:-

  1. Crawling
  2. Indexing
  3. Retriveal और Ranking

चलिए हम लोग देखते हैं इन 3 phase के बारे में.

1. Crawling

Crawling का मतलब होता है ढूंढना. इस process के अंदर सर्च इंजन के bots आपके वेबसाइट पर आते हैं. Bots आपके wesbite पर keywords, internal links, external links, images, videos, headlines, meta tags, content को हासिल करते हैं. इसका सीधा मतलब समझे कि आप के वेबसाइट पर हर एक चीज को ढूंढा जाता है.

Crawling process मे मुख्य तौर पर आपके कांटेक्ट और website structure को परखा जाता है.

Crawling के बिना सर्च इंजन को आपके वेबसाइट के बारे में जानकारी नहीं मिलेगी और वह आगे कुछ नहीं कर पाएगा.

सर्च इंजन crawling कब और कैसे करते हैं?

कोई भी सर्च इंजन crawling करने के लिए एक तरह के सॉफ्टवेयर जिनको bots या spider बोलते हैं उनका उपयोग करती है. यह bots आपके वेबसाइट पर हर एक चीज को काफी तेजी से बड़ लेती है. Google के मुताबिक उनके bots 1 seconds के अंदर 100-1000 web pages को पढ़ सकते हैं.

Crawl करने का कोई निर्धारित समय और तारीख नहीं होती है लेकिन यह आपकी वेबसाइट पर नियमित तौर पर आती रहती है.

Note – जितना प्रसिद्ध आपका वेबसाइट होगा इतनी ज्यादा बार bots आपके वेबसाइट पर आएंगी.

हर सर्च इंजन अपने bots का अलग नाम रखती है:-

  1. Google – Google Bots
  2. Yahoo – Yahoo Slurp
  3. Bing – Bing Bot
  4. DuckDuckGo – DuckDuckGo Bot

2. Indexing

Indexing का आसान मतलब होता है store करना. जो भी डाटा crawling के समय प्राप्त हुआ है उसको कहीं ना कहीं store करना पड़ता है. यहां store करने के लिए data base server का उपयोग किया जाता है.

Google के अनुसार वह हर रोज 3 trillion से ज्यादा pages को crawl और index करता है. Google के पास data का बहुत large data base है इसमें वह अपने सारे information रखता है.

3. Retriveal और Ranking

सर्च इंजन का यह आखिरी step जो कि बहुत ही complex है.

इस समय पर सर्च इंजन के पास सारे webpages हैं जोकि उनके servers में स्टोर है. अब सर्च इंजन को इनमें से सबसे उपयोगी और relevant वेबसाइट को users के सामने दिखाना है.

इसके लिए बहुत complex algorithm बनाया गया है. इस algorithm में content, backlink, user-experience आदि के अलावा 200 से ज्यादा factors को ध्यान में रखा जाता है.

Search Engine History In Hindi – सर्च इंजन का इतिहास

आज हमारे पास इंटरनेट है और जैसे ही हमें कुछ खोजना होता है या कोई चीज के बारे में जानकारी चाहिए होती है तब हम इंटरनेट का उपयोग करते हैं.

लेकिन एक समय था जब इंटरनेट दूर-दूर तक नहीं था. मैं बात कर रहा हूं 1990 या उससे पहले की. तक कोई भी जानकारी के लिए काफी मेहनत लगती थी.

उस समय पर आपको अगर रास्ता पूछना रहता था तब आप आसपास के लोगों से जानकारी लेते थे. परंतु आजकल लोग किसी से रास्ता नहीं पूछते हैं वह online maps जैसे – Google Maps का उपयोग करते हैं.

वैसे तो बहुत सारे सर्च इंजन आए और गए लेकिन मैं आपको केवल famous सर्च इंजन की जानकारी देने वाला हूं.

1. Archie (1990) सर्च इंजन

यहां विश्व का सर्वप्रथम सर्च इंजन था. इसकी शुरुआत Alan Emtage, Bill Heelan and J. Peter Deutsch ने McGill University में किया था. यह FTP files को डाउनलोड करके उनको एक सर्च करने लायक web page में दिखाता था. हालाकी गौर करने वाली बात है कि यह content नहीं दिखा पाता था.

2. W3Catalog (1993) सर्च इंजन

सही मायने में यह पहला सर्च इंजन जो कि सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करता था. इससे पहले सभी सर्च इंजन मानव के द्वारा directories बनाकर इस्तेमाल किए जाते थे. परंतु इसने सर्च इंजन की परिभाषा को ही बदल के रख दिया. यह क्रांतिकारी invention था.

3. AliWeb (1993)

AliWeb की शुरुआत 1993 में Martijn Koster किया था. यह पहला सर्च इंजन था जो कि असल में auotmation का उपयोग करता था. इसके पास अपने web crawlers थे जो कि पूरे वेबसाइट पर खोज करते रहते थे और हमेशा अच्छे web pages को दिखाते थे.

4. WebCrawler (1994)

WebCrawler एक meta सर्च इंजन जिसकी शुरुआत 1994 में Brian Pinkerton ने किया था.यह बहुत पुराना सर्च इंजन है जो कि आज भी उपलब्ध है. एक समय पर यह दुनिया का सबसे visited वेबसाइट था लेकिन जल्द ही यह अपने competitors से पीछे हो गया.

5. Lycos (1994)

यह एक web portal है जिसकी शुरुआत 1994 में Carnegie Mellon University से की गई थी.यह सर्च इंजन web hosting, email services, social networking और entertainment की सेवा भी देती है.

6. Yahoo Search Engine In Hindi

Yahoo पहला प्रसिद्ध सर्च इंजन था इसकी शुरुआत Jerry Yang और David Filo ने 1994 में किया था. असल में यह एक directory की तरह चालू हुआ था. फिर 1995 में इसमें search query डाल दिया गया किस कारण सही है लोगों की पहली पसंद बन गई.

7. Dogpile Search Engine in Hindi

यह एक meta search engine जो की दूसरे सर्च इंजन जैसे Google, Yahoo, Bing आदि से डाटा fetch करके हमको दिखाता है. यह दूसरे सर्च इंजन से Audio, Video, Images और बाकी सारी जानकारी प्राप्त करता है. इसकी शुरुआत 1994 में Aaron Flin ने किया था.

Dogpile search engine के कुछ features:-

  1. Link Category – इस सर्च इंजन में आप अपने result को कैटेगरी जैसे – Videos, Audio आदि में बांट सकते हैं. आपको जो चाहिए वह इसमें सर्च कर सकते हैं.
  2. Yellow Pages Search – यह सर्च इंजन आपको yellow pages में भी सर्च करने का option देती है.
  3. Spelling Correction – अगर कोई type करते समय spelling गलत होती है तो यह आपको suggestion में सही words दिखा देता है.
  4. Recent Searches – आपने अभी क्या सर्च किया है यह भी आपको recent searches के अंदर मिल जाएगा.
  5. About Result – आप इसमें Dopile की policies के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

8. Ask.com

इसकी शुरुआत असल मायने में 1996 में हुई थी. इसको पहले “Ask.jeeves” के नाम से जाना जाता था. परंतु 2006 में इसका नाम इसका “ask.com” कर दिया गया था.

9. Google

Google आज के दिन कौन नहीं जानता. विश्व की जो भी online searches होते हैं उसमें से Google पर 94% सर्च होते हैं.

इसकी शुरुआत 1998 में Larry Page, Sergey Brin और Scott Hassan ने किया था.

10. Bing

Bing सर्च इंजन की शुरुआत 2009 में Microsoft ने किया था. Microsoft का मुख्य मकसद Google को टक्कर देना था. यह Google और YouTube के बाद विश्व का तीसरा popular search engine हैं.

सारांश (Summary)

सर्च इंजन का उपयोग करके अपने सवालों का जवाब काफी आसानी से ढूंढ सकते हैं. इस Digital era मैं हमको अपने सवालों का उत्तर जानने के लिए teachers के पास जाने की कोई जरूरत नहीं. आप अपने फोन से ही सारे उत्तर ज्ञान सकते हैं.

सर्च इंजन अपने पास सारे वेबसाइट का डाटा रखता है और जैसे कोई user कोई question पूछता है सर्च इंजन उसको relevant जवाब देता है.

अब आपकी बारी (Your Turn Now)

मैं आशा करता हूं कि आपको search engine kya hai समझ में आ गया होगा. इसके बावजूद आपका कोई प्रसन्न हो तो मुझे नीचे comments में पूछ सकते हैं.

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो आप अपने दोस्तों के साथ इसको शेयर करें और उनको भी सर्च इंजन के बारे में जानकारी दें.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *